<< Back to News

सिरसा में सद्भावना सम्मेलन का आयोजन


सिरसा, 4 मार्च : भारतीय जनता पार्टी ने आरएसएस के साथ मिलकर प्रदेश में अब 35 बिरादरी के नाम पर एक नया काम शुरू कर दिया है। 35 बिरादरी की एकजुटता की बात कहकर भ्रम पैदा किया जा रहा है जो लंबे समय तक नहीं चलेगा। जल्द ही जनता इस भ्रम का भी पटाक्षेप कर देगी। यह बात नेता प्रतिपक्ष एवं ऐलनाबाद के विधायक अभय सिंह चौटाला ने आज सिरसा में डबवाली रोड स्थित अपने आवास पर पत्रकारों से बात करते हुए कही।

अभय सिंह ने कहा कि पहले तो भाजपा व कांग्रेस ने मिलकर जाट आरक्षण आंदोलन की आड़ में लोगों को लड़ाने का काम किया। भाजपा ने अपनी ही पार्टी के सांसद राजकुमार सैनी को एक जाति विशेष के खिलाफ बोलने की खुली छूट दी जिससे माहौल बिगड़ा। जब माहौल बिगड़ गया तो सरकार ने उसे नियंत्रित करने की बजाय प्रदेश के लोगों को लुटने के लिए बेसहारा छोड़ दिया। अब फिर से प्रदेश में भाईचारा व अमन-शांति कायम होने लगी है तो भाजपा ने आरएसएस के साथ मिलकर 35 बिरादरी की एकजुटता का भ्रम फैला दिया है। 

अभय सिंह ने कहा कि यह भाजपा की एक साजिश है ताकि जात-पात का जहर घोला जा सके। जाट आरक्षण के सवाल पर उन्होंने कहा कि जाट समुदाय के लोग एक साल से आरक्षण की मांग करते आ रहे थे। समुदाय के लोगों ने ज्ञापन दिए। मांग पत्र दिए। सरकार के नुमाइंदों से मुलाकात की लेकिन जब सरकार ने उनकी कोई सुनवाई नहीं की तो मजबूर होकर समुदाय के लोगों को धरना देना पड़ा था। शुरू में 4-5 दिन आंदोलन शांति से चला लेकिन कांग्रेस नेता प्रो. वीरेंद्र सिंह का ऑडियो वायरल होने के बाद हिंसा भड़क गई। उन्होंने कहा कि भाजपा ने हिंसा रोकने के लिए कोई उचित कदम नहीं उठाया। सेना तक बुलाई गई, लेकिन सेना को काम नहीं करने दिया। उन्होंने कहा कि भाजपा के लोगों ने ही व्यापारियों व दुकानदारों को लूटने का काम किया। उन्होंने आरोप लगाया कि रोहतक के विधायक मनीष ग्रोवर के सुरक्षा कर्मियों के घर से लूट का सामान मिलना यह साबित करता है कि इस लूट में भाजपा के लोग ही शामिल थे। अभय सिंह ने कहा कि इनेलो की सोच शुरू से ही आपसी भाईचारे की रही है। इसी बात को ध्यान में रखकर सभी जिलों में सदभावना बैठकें हो रही हैं और कार्यकर्ताओं से भी आपसी भाईचारा बनाए रखने की अपील की जा रही है। मुआवजे के सवाल पर उन्होंने कहा कि खुद सरकार कह रही है कि प्रदेश में 30-35 हजार करोड़ रुपयों का नुकसान हुआ है तो फिर 12 करोड़ रुपये का मुआवजा देना ऊंट के मुंह में जीरे के समान है। उन्होंने सरकार की मंशा पर सवाल उठाते हुए कहा कि उन्हें नहीं लगता कि सरकार किसी को कोई मुआवजा राशि देगी। एक सवाल के जवाब में इनेलो विधायक ने कहा कि वे हरियाणा विधानसभा के बजट सत्र में यह मुद्दा पूरे जोर-शोर से उठाएंगे और काम रोको प्रस्ताव देकर पहले आंदोलन पर ही चर्चा करेंगे। इसके उपरांत उन्होंने सदभावना सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि  भाजपा व कांग्रेस ने मिलकर जिस प्रकार प्रदेश का शांति पूर्ण माहौल बिगाड़ा है जिसकी जितनी भी निंदा की जाए कम है,जननायक ताऊ देवी लाल ने हरियाणा राज्य के निर्माण का पौधा लगाया था जिसे इनेलो नष्ट नहीं होने देगी।

चौटाला ने कार्यकर्ताओं को आह्वान करते हुए कहा कि वे शहर व गांवों में जाकर जनता में भाईचारा व शांति का संदेश दे। उन्होंने कहा कि भाजपा व कांग्रेस ने प्रदेश में भाईचारा समाप्त करने हेतु एक साजिश के तहत आरक्षण के नाम पर दंगे करवाए। इनेलो नेता ने कहा कि आरक्षण की मांग को लेकर शांति पूर्वक आंदोलन कर रहे लोगों पर मुक्द्धमें बनाकर उन्हें बेवजह परेशान किया जा रहा है, लेकिन उपद्रवियों को छोडा जा रहा है क्योंकि ये उपद्रवी भाजपा के समर्थक हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा नेता मुनीष गरोवर के सुरक्षा कर्मचारियों के घर से लूट का सामान मिलना इस बात को सिद्ध करता है कि लूटमार में भाजपा नेताओं का हाथ हैं। भाजपा पहले दंगे करवाती है बाद मेें शांति व भाईचारे की बात करती हैं। उन्होंने भाजपा के रक्तदान शिविर को दिखावा बताते हुए कहा कि इनेलो प्रदेश को बरबाद नही होने देगी। इस सद्भावना सम्मेलन को सिरसा के विधायक मक्खन लाल सिंगला, विधायक रामचंद्र कम्बोज, विधायक बलकौर सिंह, नलवा के विधायक रणवीर प्रजापत व गोहाना के पूर्व विधायक डा. राम कुमार सैनी ने भी संबोधित किया, जबकी इस सम्मेलन में इनेलो जिलाध्यक्ष पदम जैन वरिष्ठ उपाध्यक्ष जसवीर जस्सा, पूर्व मंत्री भागी राम, महिला विंग अध्यक्षा कृष्णा फौगाट,प्रवक्ता तरसेम मिढ़ा, सह प्रैस प्रवक्ता महावीर शर्मा, युवा जिलाध्यक्ष धर्मवीर नैन,प्रदीप मैहता एडवोकेट,रमेश मैहता आढ़ती, रणधीर जोधकां,कश्मीर सिंह करीवाला, गंगाराम बजाज,गुरदयाल मैहता, नरेन्द्र मैहता, सुशील कम्बोज, चन्द्र जैन,पुष्पा नारंग,मधु चौहान, बिमला कायत, लक्की चौधरी, आशा बाल्मिकी,मनोहर मैहता,मिनुदीन पहलवान, कृष्ण ढाका, वेद वधवा, अभय सिंह खोड,कृष्ण झोरड़, प्रहलाद सोनी, सर्वजीत मसीतां,सुशील डुगांबुगा विनोद बेनीवाल सहित सैकडों कार्यकर्ता उपस्थित थे।


Forward  



web counter